1 Comment

  1. विकास विकास
    मार्च 11, 2020 @ 11:22 पूर्वाह्न

    रोचक। बैठे बैठे लाखो के सपने देखने वालों की जब आँखें खुलती हैं तो वह लाखों गँवा चुके होते हैं। सटीक व्यंग्य।

प्रातिक्रिया दे