2 Comments

  1. अभिषेक सूर्यवंशी अभिषेक सूर्यवंशी
    फ़रवरी 23, 2020 @ 8:24 अपराह्न

    पैराग्राफ के बीच में भी विराम चिह्नों का प्रयोग करें।

    कहानी बहुत भयावह है। मुझे तो डर कई रोज तक लगा रहेगा।

  2. Kanupriya Kanupriya
    फ़रवरी 24, 2020 @ 12:26 पूर्वाह्न

    Mobile me likhi kahani,sahind me ek baar post karne ke baad edit ka option nahi mil paya .Kuch proofreading ki bhi mistakes hain.agli baar dhyan rakha jaega.
    Baki kahani average hi hai.dar to mujhe bhi na laga khas 🙂

प्रातिक्रिया दे